Breaking News

सत्ता पक्ष के लिए कोई दंड गुजरात में नहीं होता पर सामान्य व्यक्ति को बिना मास्क के हजार रुपए दंड किया जाता है

Himanshu Yadav 23 August 2020 3:41 PM State 41985

कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से आज कोई भी देश अछूता नहीं है इस महामारी में लाखों लोगों ने अपनी जाने गवाही हैं और करोड़ों लोग संक्रमित होकर अस्पताल में पड़े हैं परंतु गुजरात में सत्ता पक्ष भाजपा को जैसे कोई फर्क ही नहीं पड़ता। नवनियुक्त चुने गए प्रदेश अध्यक्ष की आवभगत में कार्यक्रम और रैलियां आयोजित की जा रही है जिसमें शोसियाल डिस्टेंसिंग बिना और बगैर मास्क के खुद भाजपा प्रमुख सी आर पाटिल देखे जा रहे हैं सत्ता पक्ष में होने के कारण उनको कोई भी दंड नहीं किया जा रहा जबकि ऐसे समय में राह चलते भिखारियों से भी दंड वसूलने के कई मामले सामने आए हैं भाजपा के कार्य करो और नेताओं के लिए सारे कायदे सिर्फ कागजों तक ही सीमित है जबकि गुजरात की सामान्य जनता को बिना मास के ₹1000 दंड किया जाता है यह दंड उस जनता से वसूला जा रहा है जिनके पास पिछले 6 माह से कोई काम धंधा नहीं है ऐसे में सत्ता पक्ष के लोगों पर कोई कार्यवाही ना होना यह बताता है कि गुजरात में “जिसकी लाठी होगी उसी की भैंस होगी”

गुजरात भाजपा के प्रदेश प्रमुख की नियुक्ति के बाद सी आर पाटिल ने तलाला सोमनाथ गिर सौराष्ट्र राजकोट इत्यादि कई जगहों पर दौरे किए हैं जिसमें कहीं पर भी नियमों का पालन किया गया हो ऐसा नहीं दिख रहा जबकि गुजरात में कई जगह अपनी दुकान के अंदर बैठे व्यापारियों को भी बिना मास्क के दंडित किया गया है यह परिस्थिति बताती है कि हमने जिन को चुनकर भेजा है वह आज राजा हो चुके हैं और सारी सरकारी मशीनरी उनकी गुलाम हो चुकी है पिछले कई सालों में हमने देखा है कि संवैधानिक संस्थाओं का कोई औचित्य हो ऐसा नहीं दिख रहा इसलिए पुलिस और प्रशासन की मौजूदगी में बड़े-बड़े जुलूस निकल रहे हैं और चौराहों पर रास गरबा भी खेला जा रहा है पर पुलिस प्रशासन मौन धारण किए बैठा है

Related News