Breaking News

सौरव गांगुली बोले, ‘चैंपियंस ट्रॉफी 2013 के बाद कोई बड़ा टूर्नामेंट नहीं जीतने वाली टीम इंडिया में सुधार की जरूरत’

Jayraj Shah 31 July 2019 1:35 PM Sports 23768

भारतीय क्रिकेट टीम (India Cricket team) के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) का मानना है कि मौजूदा टीम में बड़े सुधार की जरूरत है क्योंकि टीम ने 2013 चैंपियंस ट्रॉफी के बाद से कोई बड़ा टूर्नामेंट नहीं जीता है. गांगुली ने कहा कि भारतीय टीम को वर्ल्डकप 2019 (World Cup 2019) के सेमीफाइनल में मिली हार से आगे बढ़ना होगा और जीता का तरीका ढूंढ़ना होगा. भारतीय टीम को वर्ल्डकप के पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड टीम (New Zealand Cricket team) से हार का सामना करना पड़ा था. गांगुली ने कहा कि भारत को इंग्लैंड (England Cricket team) की तरह वर्ल्‍ड चैंपियन बनने के लिए खुद में सुधार करने होगा. इंग्लैंड की टीम वर्ल्डकप 2015 (World Cup 2015) में ग्रुप चरण में ही हारकर बाहर हो गई थी. उसके बाद उसने खुद के अंदर तेजी से सुधार किया और चार साल बाद ट्रॉफी अपने नाम कर ली.

गांगुली (Sourav Ganguly) ने कहा, ‘मैं बहुत सारे खिलाड़ियों के विरोध में हूं. स्थिरता किसी भी चीज के लिए सही नहीं है. हमने 2013 चैंपियंस ट्रॉफी के बाद से कोई वैश्विक टूर्नामेंट नहीं जीता है. हमें वर्ल्डकप 2019 (World Cup 2019) के सेमीफाइनल में मिली हार से आगे बढ़ने का रास्ता खोजना होगा. हाल के वर्ल्डकप में इंग्लैंड ने जो किया आप उसे देखें. उन्होंने 2015 के बाद खुद को बदला, बहुत कुछ सीखा और अब वे विश्व विजेता हैं.’ इसके साथ ही गांगुली का मानना है कि चयनकर्ताओं, टीम प्रबंधकों और खिलाड़ियों के बीच सुचारू रूप से बातचीत होती रहनी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘हमें केवल बदलाव की ही नहीं बल्कि मैच विजेता पारी मंत्र की आवश्यकता है. विराट (Virat Kohli), रोहित शर्मा (Rohit Sharma) और जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) को मोहम्मद शमी (Mohmmad Shami) से सीखना चाहिए.’

सौरव गांगुली ने विराट कोहली और रोहित शर्मा के बीच अनबन की अफवाहों पर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा, ‘मैंने अतीत में भी ऐसा सुना है और इसमें कोई संदेह नहीं है. इसे फिर से सुना जाएगा. अगर टीम जीतती है तो सब ठीक है. एक बड़े टूर्नामेंट में सेमीफाइनल हार गए तो फुसफुसाहट शुरू हो गई.’

 

SOURCE:-NDTV

Related News