Breaking News

सामाजिक संस्था इस्लामिक मिशन ट्रस्ट ने की उटावड के पीड़ित परिवार की मदद –: ताहिरा

Harshit Sharma 29 April 2019 11:51 AM City 34829

समाज हित में सामाजिक संस्थाओं की अग्रणी भूमिका

मरहम लगा सको तो किसी गरीब के जख्मों पर लगा देना,
हकीम बहुत हैं बाजार में, अमीरों के इलाज खातिर ।

कहते है कि दर्द को कम तो किया जा सकता है लेकिन भुलाया नही जा सकता है। कल शाम को उटावड गांव के एक पीड़ित परिवार से इस्लामिक मिशन ट्रस्ट के सदस्यों की मुलाकात हुई जिसमें उन्होंने बताया की  7-7-2005 को हरियाणा पुलिस के जवानों ने एक गरीब ट्रक ड्राइवर की गर्दन तोड़कर व अन्य तरीके से हत्या कर दी। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि हत्या के पीछे हरियाणा पुलिस के साथ साथ मेवात के ही लोगो का हाथ रहा है। इस बारे में भी गांव के लोगो, रिश्तेदारों ने और पीड़ित परिवार ने विस्तार से बताया । पीड़ित परिवार ने तो यहां तक कहा कि हमने जब डेडबॉडी लेने से मना कर दिया तो पुलिस ने कहा कि आप डेडबॉडी ले जाओ वरना गांव वाले ले जाकर दफना देंगे सभी आपके गांव के जिम्मेदार हमारे साथ है ।
ये है मेवात का हाल, इसमे मुझे कई तरह की चीजें नजर आती है एक तो दल्ला गिरी ओर दूसरी कायरता ।
आज मेवात का युवा पुलिस से जान पहचान को अपनी बहादुरी मानता है लेकिन ये नहीं सोचता है कि ये लोग आपका इस्तेमाल करके आपको छोड़ देंगे इससे ज्यादा कुछ नहीं है ।
कहानी बहुत बड़ी है लेकिन फिर बात करेंगे इस पर ।
कल 29 अप्रैल को इसी पीड़ित परिवार की लडक़ी की शादी है जिसमें इस्लामिक मिशन ट्रस्ट ने शादी का सारा सामान बर्तन वगेरा दिलवा दिया है अब परिवार बहुत खूश है ।
पिता की मौत के बाद ही लड़की ने अपनी माँ को भी खो दिया था। यानी उसकी माँ ने दूसरी शादी कर ली और बच्चों की तरफ़ नही देखा, परिवार के पास पैसा नही था। लेकिन अल्लाह के यहाँ देर है अंधेर नही है। इस्लामिक मिशन ट्रस्ट ने पहले भी बहुत समय से इस परिवार की मदद करती आई है। इस्लामिक मिशन ट्रस्ट की चैयरमैन कहती हैं कि इससे बड़ा नेक कार्य ओर कोई हो नही सकता। जब किसी के पास पैसे न हो और लड़की की शादी करनी हो। ऐसे समय में गरीब व यतीम बच्चियों की मदद करना अल्लाह हर किसी को नसीब फरमाए।
लेकिन समाज मे अभी भी बहुत लोग है जो सही मायने में किसी की मदत करना चाहते हैं ।
इस मौके पर मैनेजिंग ट्रस्टी मोहम्मद इरशाद मेव के साथ साथ आरिफ टाई,सगीर, मरदान,वसीम भी शामिल रहे।
समाजिक कार्यकर्ता आरिफ टाई का इसमें अहम योगदान रहा जिसके माध्यम से हमें इस शादी की जानकारी मिली।

हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना,
दर्दमन्दो से ज़इफ़ो से मुहब्बत करना।

Related News